Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
बॉलीवुड की खूबसूरत अदाकारा दीपिका पादुकोण पिछले काफी वक्त से अपनी आगामी फिल्म 'छपाक' की तैयारियों में व्यस्त चल रही हैं। फिल्मकार मेघना गुलजार के निर्देशन में बन रही इस फिल्म में दीपिका को एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की भूमिका निभाते हुए देखा जाएगा। बीते सोमवार को ही इस फिल्म में दीपिका का पहला लुक शेयर किया गया था। उनकी पहली झलक ने ही फिल्म को लेकर हर किसी में उत्सुकता पैदा कर दी है। देखते ही देखते यह कुछ ही मिनटों में सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगा।
कौन हैं लक्ष्मी अग्रवाल:-
वैसे दीपिका जिस लक्ष्मी अग्रवाल का किरदार इस फिल्म में निभाने जा रही हैं, क्या आप जानते हैं कि वह असल में है कौन? और क्या है इस फिल्म की कहानी? तो चलिए आज पहले लक्ष्मी पर ही थोड़ी सी चर्चा कर ली जाए। गौरतलब है कि, लक्ष्मी का जन्म दिल्ली के एक गरीब परिवार में हुआ था। लेकिन इसके बावजूद उनके सपने बहुत बड़े-बड़े थे। लक्ष्मी को सिंगिंग और डांसिंग का बेहद शौक था। वह बड़ी होकर सिंगर या कथक डांसर बनना चाहती थी। हालांकि पिता एक कुक थे, जो इतना नहीं कमा पाते थे कि अपनी बेटी के ऐसे बड़े-बड़े सपनों को पूरा कर पाएं।
लेकिन अपनी गरीबी वाली जिंदगी में भी लक्ष्मी बहुत खुश थी। इसी बीच एक मनचले लड़के को लक्ष्मी से एक तरफा प्यार हो गया। लाख मना करने के बाद भी वह लक्ष्मी को शादी के फोर्स करने लगा। लेकिन लक्ष्मी ने हर बार उसका प्रस्ताव ठुकरा दिया। फिर भी उसने लक्ष्मी का पीछा करना नहीं छोड़ा। लेकिन इस शख्स को लक्ष्मी की ना स्वीकार नहीं हुई और उसने वह घिनौनी साजिश रची, जिसके बारें में शायद कोई सोच भी नहीं सकता था।
एक 'ना' पड़ा लक्ष्मी को भारी
एक दिन लक्ष्मी बुक स्टोर पर जाने के लिए अपने घर से निकली तभी इस सिरफिरे आशिक ने उनके चेहरे पर एसिड से भरी बोतल से हमला कर दिया। उसके साथ उस समय 2 लोग और भी थे। वर्ष 2005 में इस घटना ने लक्ष्मी की जिंदगी को पूरी तरह से बदल कर रख दिया। उन्हें नहीं पता था कि, एक 'ना' की कीमत उन्हें इस तरह से भी चुकानी पड़ सकती है। लक्ष्मी सड़क पर तड़पती रहीं, तभी एक टैक्सी ड्राइवर उनकी मदद के लिए आगे आया उसने उन्हें अस्पताल पहुंचाया।
अपने साथ हुए इस हादसे के बारे में लक्ष्मी कहती हैं कि, जब एसिड फेंका गया तो मेरी स्किन किसी प्लास्टिक की तरह पिघल रही थी। उन्होंने जैसे ही रोने के लिए अपने पिता को गले लगाया तो उनकी शर्ट भी लक्ष्मी के छूने से उस जगह से जलने लगी। लेकिन उन्होंने कहा, सबसे खौफनाक मंजर तो तब था जब मैं पूरी तरह से होश में थी और डॉक्टर्स मेरी आंखे सिल रहे थे।
इस हमले के बाद लक्ष्मी को कई महीनों तक हॉस्पिटल में रहना पड़ा, उनकी 7 सर्जरी की गई। वह दिन-रात इसके दर्द से तड़पती रहती थीं और आईना देखने के नाम से भी कतराने लगी थीं। लक्ष्मी को थोड़ा-बहुत ठीक होने में भी लंबा वक्त लगा। इसके बाद जब लक्ष्मी ने पहली बार शीशा देखा तो वह बिल्कुल टूट चुकी थीं। लेकिन जैसे ही वह ठीक होने लगीं उन्होंने सबसे पहले बाजारों में तेजाब और एसिड जैसी चीजों की बिक्री को बैन करवाने के लिए कोर्ट में एक पीआईएल दायर की।
इस पर 2013 तक केस चला और अंत में सुप्रीम कोर्ट ने तेजाब की बिक्री को हमेशा के लिए प्रतिबंधित कर दिया। लेकिन यहां आकर लक्ष्मी ने हिम्मत नहीं, बल्कि वह और आगे बढ़ी। उन्होंने एक स्टॉप एसिड अटैक कैम्पेन शुरू किया। आज वह फैशन की दुनिया में भी एक बड़ा नाम हासिल कर चुकी हैं।
'ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/uAwfFecIQT8" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.