Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
हर कोई चाहता है कि उसके पास भी एक कार हो जिसे वह कभी भी कहीं भी लेकर जा सके। लोग इससे मिलने वाली सुविधाओं का तो ध्यान तो हमेशा रखते ही है, लेकिन इससे होने वाले नुकसान से भी मुंह नहीं फेरा जा सकता। अक्सर हमें चलती कार में आग लगने जैसी खबरें सुनने को मिल जाती हैं। जो लोगों को परेशान कर देती हैं। हालांकि पिछले कुछ समय में इस तरह की घटनाएं काफी बढ़ गई हैं। कई बार लोगों को लगता है कि पुरानी कारें इस तरह की समस्याएं खड़ी करती हैं, लेकिन आपको बता दें कि नई कारों में यह भी ऐसा होना आम बात है।
वैसे तो अक्सर कार कंपनी ये कहकर अपना पल्ला झाड़ लेती हैं कि शॉर्ट सर्किट के कारण ऐसा हुआ है। लेकिन हम इस बात से भी इंकार नहीं कर सकते कि कई बार हनारी लापरवाही के कारण हम इस तरह के बड़े हादसों का शिकार हो जाते हैं। इसका खामियाजा लोगों को अपनी जान देकर भी चुकाना पड़ता है। तो चलिए आज हम इसी बात पर गौर करते हैं कि किन कारणों से कार में लगती है।
ऑटो एक्सपर्ट्स का मानना है कि, लोग थोड़े से पैसे बचाने अपनी कार में सिक्योरिटी सिस्टम, स्टीरियो और रिवर्स पार्किंग सेंसर जैसी चीजें सर्टीफाइड कंपनियों से न लगवाकर मोहल्ले में ही खुली किसी दुकान से लगवा लेते हैं। जिसकी वहब से अक्सर कई तारे ढ़ीली हो जाना या फिर गलत जगह फिट होना भी स्पार्किंग की वजह बन जाता है और ऐसे में कार चलते-चलते ही भीष्ण आग पकड़ लेती है।
अक्सर लोगों में एक बहुत गलत आदत देखी गई है कि वह अपनी नई कार की फ्री सर्विस खत्म होने के बाद किसी कंपनी के पास न जाकर लोकल मैकेनिक से सर्विस करवा लेते हैं। वहीं दूसरी ओर वह मैकेनिक फिल्टर या ऑयल बदलने पर ही इसे कार सर्विस का नाम दे देते हैं। आगे जाकर उनकी यह लापरवाही उनके लिए खतरनाक साबित होती है।
हमेशा लोगों को हिदायत दी जाती है कि किसी अधिकृत डीलर से ही सीएनजी या एलपीजी किट लगवाएं, लेकिन थोड़े पैसे बचाने के लिए लोग किसी भी अनधिकृत डीलरों से किट फिट करवा लेते हैं। इसे लगाने के लिए वायरिंग में कट लगाया जाता है और यह कई बार शॉर्ट सर्किट के रूप में दिखाई देता है।
जब भी कार में आग लगती है तो इसके बाद पावर विंडो और सेंट्रल सिस्टम पूरी तरह से काम करने बंद कर देते हैं। ऐसे में कार में बैठा शख्स बाहर नहीं निकल पाता। इस दौरान कार में कार्बनमोनो ऑक्साइड बनने लगती है और शख्स की मौत तक हो जाती है।
'ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.