Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
बचपन से हम पढ़ते और सुनते आ रहे हैं, प्लास्टिक हमारे जीवन के लिए कितना खतरनाक है। प्लास्टिक हमारे जीवन की एक ऐसी समस्या है, जिसे खत्म होने में सालों लग जाते हैं। शायद यही वजह से कि समय-समय पर प्लास्टिक बैन की खबरे सुनने को मिल जाती है, लेकिन आज तक इसपर पूरी रोक नही लग पाई है। समय के साथ-साथ प्लास्टिक का इस्तेमाल भी बढ़ता जा रहा है, जिससे हम तो प्रभावित हो ही रहे है हमारे साथ-साथ मासूम जीव-जंतु व पशु भी हमारी इस गलती का शिकार हो रहे हैं।
जमीन ही क्या हमने तो पानी को भी प्लास्टिक से अछूता नहीं छोड़ा है। पृथ्वी की सतह का 70 फीसदी से ज्यादा क्षेत्र समुद्र में फैला है। इंसानों और पशुओं के अलावा ये प्लास्टिक समुद्री जीवों को भी बुरी तरह प्रभावित कर रहा है, आए दिन प्लास्टिक खाने की वजह से कई समुद्री जीवों की मौत की खबर सुनने में आ ही जाती है। ये प्लास्टिक समुद्री जीवों के पेट में जाता है और उनकी मौत की वजह बनता है।
अब-तक आपने समुद्र किनारे तैरते प्लास्टिक के समानों को देखा होगा, लेकिन अब आपके लिए एक नई खबर है। खबर ये है कि अब प्लास्टिक न केवल समुद्र बल्कि समुद्री सतह तक को छू चुका है। यह कोई गर्व करने की नहीं बल्कि सोचने वाली बात है, इसके जिम्मेदार कोई और नहीं बल्कि हम ही हैं।
जी हां, समुद्री सतह वो भी कोई छोटी-मोटी सतह नहीं बल्कि प्रशांत महासागर (पेसिफिक ओशन) के मारियाना ट्रेंच की सतह, जिसे प्रशांत महासागर की सबसे गहरी खाई कहा जाता है।
अमेरिका के गहरे समुद्र में खोजकर्ता ‘विक्टर वेसकोवो’ ने हाल ही में अब-तक की सबसे गहरी सबमरिन डाइव का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। बताया जा रहा है कि वह 1 मई को प्रशांत महासागर में तकरीबन 11 किलोमीटर नीचे मौजूत सतह तक गए और उस सतह पर उन्होंने लगभग 4 घंटे बिताए। विक्टर और उनकी टीम का मानना है कि उन्होंने समुद्री सतह पर प्लास्टिक जैसे टॉफी के पैकेट, प्लास्टिक बैग्स और बोलते देखीं।
<blockquote class="twitter-tweet" data-lang="en-gb"><p lang="en" dir="ltr">An American explorer-Victor Vescovo while breaking the record for the deepest ever dive descended nearly 11km to the deepest place in the ocean and found possible new species of shrimp and a Plastic Bag. <a href="https://twitter.com/hashtag/plasticpollution?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#plasticpollution</a> <a href="https://twitter.com/hvgoenka?ref_src=twsrc%5Etfw">@hvgoenka</a> <a href="https://t.co/ocCdDsXmgC">pic.twitter.com/ocCdDsXmgC</a></p>— Sidney Fernandes⚓️ (@SidFern) <a href="https://twitter.com/SidFern/status/1127952584612782080?ref_src=twsrc%5Etfw">13 May 2019</a></blockquote><script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>
विक्टर न केवल महासागर की सबसे गहरी खाई में गए बल्कि उन्होंने वहां का वीडियो भी बनाया और इस वीडियो के जरिए उन्होंने दुनिया के सामने सतह का हाल भी रखा।
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/hvnwMvY3pkU" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
प्लास्टिक के कारण हो चुकी हैं कई व्हेलों की मौत-
हाल ही में एक प्रेग्नेंट व्हेल की मौत प्लास्टिक की वजह से हुई थी। ये व्हेल इटली के समुद्र किनारे मिली थी, जिसके पेट से 21 किलो प्लास्टिक का कचरा निकला था।
इससे पहले थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में भी एक मरी हुई व्हेल समुद्र किनारे मिली थी, जिसके पेट में से 80 प्लास्टिक के बैग मिले थे।
फिलीपींस में एक व्हेल की मौत 40 किलो प्लास्टिक का कचरा निगलने से हो गई थी। उसके पेट में इतना प्लास्टिक था कि वो और कुछ खा नहीं पा रही थी अंत में भूख के कारण उसकी मौत हो गई।
इंडोनेशिया के वकाटोबी नेशनल पार्क में एक व्हेल की मौत की वजह 115 प्लास्टिक कप, 4 पानी की बोतले, 25 प्लास्टिक बैग और कुल 1000 प्लास्टिक के पीस बने।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.