Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
एक ज़माना हुआ करता था, जो मसलन अभी भी है, लेकिन उसका कंट्रास काफी कम हो गया है, जब महिलाएँ आभूषणों में सोने और चाँदी के प्रति बड़ी सजग रहा करती थीं। कहने का मतलब यह है कि वो अपने शरीर में जो भी आभूषण पहनती थीं उसकी डिज़ाइन से ज़्यादा वो उसकी गुणवत्ता पर अधिक फोकस किया करती थीं। यही कारण है कि आज की दो लेडीज जितनी धातु से अपने पूरे गहने बनवा लें उतने वजन धातु की तो पहले की महिलाएँ केवल हँसुली या बाजूबंद ही पहन लेती थी। लेकिन अब वो ज़माना नहीं रहा। आभूषणों को लेकर आज की महिलाओं और ख़ासकर लड़कियों की धारणा एकदम से बदल चुकी है।
जी हाँ, बढ़ती महँगाई में सोने, चाँदी और हीरे के दाम आसमान पर पहुँच चुके हैं, ऐसे में चूँकि आभूषण महिलाओं की सबसे ज़्यादा पसंदीदा चीज़ है तो वह इसे कैसे कैरी करके चलें। इस समस्या का विकल्प बनकर मार्केट में आये ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरीज़ के ब्रांड और प्रोडक्ट्स। आपको बता दें कि ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी से पहले लगभग आज के डेढ़-दो दशक पहले से रोल्ड-गोल्ड ने बाज़ार पर अपनी पकड़ मज़बूत बना ली थी। लेकिन आज ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी ही महिलाओं की सबसे बड़ी पसन्द हैं, जिसके कई कारण हैं।
लाइटवेट में भारीपनः
आपको बता दें कि ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी काफी लाइटवेट होती है। इसीलिए इसे काफी बड़े आकार में ढाला जा सकता है। इस प्रकार यदि आप भारी दिखने वाली ज्वेलरी पहनना पसंद तो करती हैं, लेकिन इतना वेट कैरी करके नहीं चल सकती हैं तो ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी इसका बेहतरीन विकल्प होता है,यही कारण है कि लड़कियों में ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी का चलन काफी बढ़ा है।
सस्तीः
ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी रियल गोल्ड, सिल्वर या डायमण्ड से काफी सस्ती पड़ती है, इसलिए इसके सहारे लड़कियाँ अपना बेहतर से बेहतर लुक भी मेंटेंन कर लेती हैं और उन्हें इसके लिए अपनी जेब भी कोई ख़ासा ढीली नहीं करनी पड़ती है।
रियलनेसः
लड़कियाँ ज्वेलरी तो पहनती हैं, लेकिन उनके मन में ये ख़्याल हमेशा बना रहता है कि वह रियल मेटल जैसी ही दिखे। इसीलिए ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी में वो सारी ख़ूबियाँ होती हैं, जैसी रियल मेटल में होती हैं, बस वह मूल धातु नहीं होती। इसमें बहुत सारी डिज़ाइन्स और वैराइटी के कारण भी लड़कियाँ ऑक्सीडाइज़ ज्वेलरी के प्रति क्रेज़ी रहती हैं।
Author: Amit Rajpoot
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop App, वो भी फ़्री में और कमाएँ ढेरों कैश आसानी से!
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.