Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
वैसे तो कार चलाने के लिए आपको अच्छी ड्राइविंग और ट्रफिक नियमों के बारे में जानकारी होनी चाहिए। इसके अलावा ड्राइविंग लाइसेंस के कुछ कागजात अनिवार्य माने जाते हैं। हालांकि इन सबके बीच आपसे कोई यह नहीं पूछता कि आप कितने पढ़ लिखे हैं। लेकिन हाल ही में एक ऐसा कानून बना दिया गया है जिसके तहत अगर आप गाड़ी चला रहे हैं तो आपको बताना होगा कि आपने कहां तक पढ़ाई की है। दरअसल, राजस्थान हाईपोर्ट की सिंगल बेंच हाल ही में निर्देश दिया है कि अनपढ़ लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस न दिया जाए।
कोर्ट के अनुसार, जो लोग अनपढ़ है वह समाज के लिए एक बड़ा खतरा बन सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें सड़कों पर लगे साइन बोर्ड, सावधानियां और कुछ जरूरी बातें समझ ही नहीं आएंगी। इस कारण वह सड़कों पर चलने वाले दूसरों लोगों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। कोर्ट ने इस मामले में अब ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी को यह निर्देश दिया कि वह एक गाइडलाइन तैयार करें, जिसमें सिर्फ उन्हीं लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस दिया जाएगा जो पढ़ने-लिखने में सक्षम होंगे।
इस दौरान कोर्ट में उस याचिका को भी खारिज कर दिया, जिसमें दीपक सिंह नाम के शख्स ने हेवी मोटर व्हीकल लाइसेंस की मांग की गई थी। जस्टिस संजीब प्रकाश ने निर्देश देते हुए कहा है कि, कोर्ट की नजरों में मोटर व्हीकल रूल सिर्फ व्यक्ति विशेष के फायदों के लिए नहीं बनाया गया है, बल्कि यह उन लोगों के लिए भी है जो सड़कों पर निकलते हैं। ऐसे में उन लोगों को ड्राइविंग लाइसेंस नहीं दिया जा सकता जिन्हें पढ़ना ही न आता हो। क्योंकि ऐसे लोग मानव सुरक्षा के लिए सड़कों पर लगे सेफ्टी बोर्ड को नहीं पढ़ सकते।
वहीं दूसरी ओर इस मामले पर केंद्र सरकार के अधिकारियों का कहना है कि मोटर व्हीकल रूल में नॉन कमर्शियल लाइसेंस लेने के लिए न्यूनतम योग्यता का कोई भी प्रावधान नहीं बनाया गया है। बल्कि कोई भी व्यक्ति टेस्ट पास करके ड्राइविंग लाइसेंस ले सकता है। इनमें वो लोग भी आते हैं जिन्हें लोग भी आते हैं जिन्हें ट्रैफिक साइन और बाकी रोड सेफ्टी के बारे में कोई जानकारी नहीं हैं। हालांकि, कमर्शियल व्हीकल चलाने के लिए अगर आप ड्राइविंग लाइसेंस बनवाते हैं तो इसके लिए कम से कम आपको 8वीं पास होना जरूरी है।
लेकिन अदालत का कहना है कि, सरकार को एक ऐसी नीति तैयार करनी चाहिए. जिसमें लाइसेंसधारकों और सड़क पर चलने वाले अन्य लोगों का भी फायदा हो। सरकर को ऐसे लोगों को लाइसेंस ही नहीं देना चाहिए जो यातायात के संबंध में लगे सभी साइन बोर्ड को पढ़ सके।
'ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.