Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
पिता का रिश्ता दुनिया में सबसे अलग और खास होता है... क्योंकि यहां भावनाओं से कहीं अधिक जिम्मेदारियों और संजीदगी का अहसास होता है। जी हां, एक तरफ जहां मां बच्चों के प्रति अपनी भावनाओं का खुलकर इजहार करती है, तो वहीं पिता जिम्मेदारियों के बोझ के साथ कठोर दिखते हैं, हालांकि उनका अपने बच्चों के प्रति स्नेह वही रहता है। ऐसे में बच्चों के साथ पिता का रिश्ता सबसे अलग और खास बन जाता है। वैसे अगर भावनाओं की बात करें तो बॉलीवुड फिल्मों में बच्चों के साथ पिता के रिश्ते पर कई फिल्में आई हैं। फादर्स डे के खास मौके पर आज हम कुछ ऐसी ही फिल्मों की बात कर रहे हैं जिनमें पिता के रिश्ते की खूबसूरती को बयां किया गया है।
फिल्म शोर
1972 में आई ये फिल्म पिता-पुत्र के रिश्तों पर आधारित थी। फिल्म में मनोज कुमार एक ऐसे शख्स की भूमिका में थे, जो कि पत्नी को खो चुका है। ऐसे में उसका इकलौता बेटा उसकी जीवन की एकमात्र खुशी है, पर अफसोस कि उसका बेटा भी एक एक्सीडेट में अपनी आवाज खो देता है। ऐसे में पिता की जिंदगी का ध्येय अपने बेटे की आवाज वापस लानी होती है और वो इसमें सफल भी हो जाता है, जब काफी मेहनत के बाद वो इतने पैसे जोड़ पाता है कि अपने बेटे की सर्जरी करा सकें। लेकिन फिर भी नियति अपना खेल खेलती है और एक तरफ जहां बेटे की आवाज वापस लौट आता है, तो वहीं पिता की सुनने की क्षमता चली जाती है। इस तरह इस फिल्म में पिता-पुत्र के रिश्तें को काफी भावनात्मक रूप से पेश किया गया था।
फिल्म डैडी
1989 में आई इस फिल्म में पिता-पुत्री के रिश्ते की संजीदगी को दिखाया गया था। महेश भट्ट द्वार निर्देशित इस फिल्म पूजा भट्ट और अनुपम खेर मुख्य भूमिकाओं में थे। फिल्म की कहानी की बात करें तो पूजा इस फिल्म में एक ऐसी बेटी के किरदार में थी, जिसका पिता शराब के नशे में खो चुका है, ऐसे में बेटी अपने स्नेह के जरिए पिता को जिंदगी की राह पर वापस लाने की कोशिश करती है।
फिल्म चाची 420
1997 में आई फिल्म 'चाची 420' में भी एक पिता और बेटी के रिश्ते की खूबसूरती पेश की गई थी। फिल्म में कमल हसन एक ऐसे पिता के किरदार में थे, जो कि अपनी बेटी के साथ रहने के लिए नौकरानी का वेश धर कर रहता है। ऐसे में ये फिल्म काफी मजेदार बन पड़ थी।
फिल्म मैं ऐसा ही हूं
साल 2005 में आई फिल्म 'मैं ऐसा ही हूं' भी पिता-पुत्री के रिश्ते पर आधारित थी, इस फिल्म में अजय देवगन, ईशा देओल और सुष्मिता सेन मुख्य भूमिकाओं में थे। फिल्म की कहानी की बात करें तो इसमें अजय देवगन एक मानसिक रूप से कमजोर व्यक्ति के किरदार में थे, जो कि अपनी बेटी के कस्टडी के लिए हर सम्भव कोशिश करता है और आखिरकार कोर्ट में ये साबित करने में कामयाब हो जाता है कि वो अपनी बेटी की जिम्मेदारी बेहतर रूप से निभा सकता है।
फिल्म पा
जी हां, पिता के रिश्ते की बात कर रहे हैं तो साल 2009 में आई फिल्म पा को कैसे भूल सकते हैं, जिसमें अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन और विद्या बालन मुख्य भूमिकाओं में नजर आए थेँ। फिल्म पिता-पुत्र के अनोखे रिश्ते पर आधारित थी, फिल्मे में अमिताभ बच्चन ने प्रोजेरिया से पीड़ित बेटे का किरदार निभाया था, जबकि उनके बेटे अभिषेक बच्चन ने उनके पिता का किरदार निभाया था। ये फिल्म हिंदी सिनेमा के बेहतरीन फिल्मों में से एक है।
फिल्म पीकू
साल 2015 में आई फिल्म पीकू में आज के समय में एक पिता-पुत्री के रिश्तें के तानेबाने को दिखाया गया था। फिल्म में पिता के किरदार में अमिताभ बच्चन और बेटी के किरदार में दीपिका पादुकोण नजर आई थीं। फिल्म में पिता-पुत्री के रूप में दोनो के बीच की मीठी नोकझोक बेहद पसंद की गई थी।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.