Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
1989 में आई फिल्म ‘मैने प्यार किया’ तो आपको याद ही होगी, जिसके जरिए सलमान खान ने बॉलीवुड में ऑफिशियली एंट्री मारी थी और वो रातों-रात सुपरस्टार बन बैठे थें। लेकिन क्या आपको ये पता है कि ये फिल्म सलमान से पहले किसी और को ऑफर की गई थी और जिसे ये ऑफर की गई थी, वो आज कैरेक्टर एक्टर को तौर पर इंडस्ट्री में पहचाने जाते है। जी हां, हम बात कर रहे हैं हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता और लेखक पीयूष मिश्रा की। सोचने वाली बात है आखिर पीयूष मिश्रा ने उस फिल्म के लिए हां क्यों नहीं बोला और अगर बोल दिया होता, तो आज क्या होता है। चलिए आपको इस बारे में जरा विस्तार से बताते हैं कि कैसे सूरज बड़जात्या के पिता राजकुमार बड़जात्या खुद इस फिल्म का ऑफर लेकर पीयूष के पास पहुंचे थे और फिर क्या हुआ जो पीयूष ने इसे स्वीकार नहीं किया।
दरअसल, पीयूष मिश्रा इस वाक्ये के बारे में मीडिया को खुलकर बता चुके हैं कि कैसे सलमान खान और भाग्यश्री की डेब्यू फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ पहले उन्हें ऑफर हुई थी और उन्होंने इसे स्वीकार नहीं लिया। असल में साल 1986 में जब पीयूष दिल्ली में रहकर एनएसडी यानी नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में पढ़ाई कर रहे थें, उसी दौरान उनके डायरेक्टर मोहन महर्षि ने एक दिन उन्हें मशहूर फिल्ममेकर राजकुमार बड़जात्या से मिलवाया।
दरअसल, राजकुमार उस वक्त अपने बेटे सूरज बड़जात्या को बतौर डायरेक्टर लॉन्च करने के लिए एक लव स्टोरी के लिए हीरो की तलाश में थे और इसी हीरो की तलाश में वो एनसडी पहुंचे थे। जहां उन्हें होनहार स्टूडेंट पीयूष से मिलवाया गया... उन दिनो पीयूष काफी हैंडसम हुआ करते थें, ऐसे में पीयूष को देख सूरज बड़जात्या काफी खुश हुए और उन्होने पीयूष कार्ड देते हुए कहा कि आप राजकमल कलामंदिर आइएगा और मुझसे मिलिएगा।
लेकिन इसके बावजूद पीयूष, राजकुमार से मिलने नहीं गए और फिर बाद में वो फिल्म सलमान के हिस्से में आ गिरी, जिसके साथ उन्होने हिंदी सिनेमा में बतौर रोमांटिक हीरो अपनी करियर की शुरूआत की। ये फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई, फिल्म के गानों से लेकर इसकी स्टोरी, हीरो-हीरोइन के ड्रेसिंग स्टाइल सब कुछ उस दौर में काफी मशहूर हुआ था।
अब सवाल ये है कि आखिर पीयूष मिश्रा ने इस फिल्म के ऑफर को स्वीकार क्यो नहीं किया तो इसके लिए जहां दूसरे लोगों का कहना है कि पीयूष ने अपने थिएटर प्रेम के चलते सिनेमा के ग्लैमर को ठुकराया था, तो वहीं खुद पीयूष का इस बारे में कहना है कि वो खुद नहीं जानते कि आखिर ऐसा उन्होने क्यों किया, उन्होने क्यों इस फिल्म के लिए थोड़ी बहुत भी कोशिश करना जरूरी नहीं समझा। हां, लेकिन 1986 के तीन साल बाद जब ये फिल्म सिनेमा घरों में प्रदर्शित हुई और उस दौर में इसका खुमार लोगों के सिर चढ़ कर बोला तो एक बार तो उन्हें लगा था कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों किया। पर आज के समय में उन्हें इस फिल्म का ना करने का अफसोस भी नहीं है।
ऐसे में इसे नियति ही कह सकते हैं कि पीयूष ने फिल्म ‘मैने प्यार किया’ के ऑफर को गंभीरता से नहीं लिया और ये सलमान के हिस्से में आ पहुंची। इस फिल्म के 30 साल बाद आज सलमान जहां इंडस्ट्री के सुलतान कहे जाते हैं, वहीं पीयूष मिश्रा की भी हिंदी सिनेमा में अपनी खास पहचान है... अभिनेता के अलावा वो बतौर राइटर और सिंगर जाने जाते हैं। पीयूष मिश्रा की अपनी फैन फॉलोइंग है, जो कि हमेशा रहेगी ।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.