Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
स्पेस साइंस में आपको करिअर बनाने के लिए गमित, भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान में स्नातक होना ज़रूरी है। कई विश्वविद्यालय स्पेस साइंस में ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन और डिप्लोमा कोर्स करवाते हैं। दिलचस्प है कि कई संस्थानों में तो स्पेस साइंस को लेकर शोध तक भी किये जा सकते हैं। इसके अलावा इसरों में भी एमएससी, बीएससी, एमई और पीएचडी कर चुके स्टुडेंट्स के लिए बेहतरीन मौक़े हैं। आपको बता दें कि डिप्लोमा कर चुके स्टुडेंट्स को भी इसरों में एडमीशन मिल सकता है। फिलहाल स्पेस साइंस में करिअर बनाने की सोचने से पहले आपको यह साफ़तौर पर समज लेने की ज़रूरत होती है कि स्पेस साइंस यानी कि अंतरिक्ष विज्ञान ब्रह्माण्ड से जुड़ा विज्ञान है।
स्पेस साइंस में पृथ्वी के वायुमंडल के बाहर होने वाली आकाशीय गतिविधियों और उनके निर्माण आदि से संबंधित प्रक्रियाओं के बारे में अध्ययन किया जाता है। स्पेस साइंस ख़ासकर एक ऐसा सेक्टर है, जिसे भविष्य में चुनौतीपूर्ण और रोज़गार के क्षेत्र के रूप में देखा जा सकता है। आपको बता दें कि स्पेस साइंस दूर से देखने और सुनने में जितना रोचक है, भीतर यह उतनी ही मेहनत और चुनौती की माँग करता है।
स्पेस साइंस की पढ़ाई करने के बाद आप इसके विभिन्न क्षेत्रों में काम कर सकते हैं, मसलन खगोल भौतिकी, गैलेक्टिक साइंस, स्टेलर साइंस, रिमोट सेंसिंग, जल विज्ञान, कार्टोग्राफ़ी, ग़ैर पृथ्वी विज्ञान, परग्रहीय जीव विज्ञान, एस्ट्रोनॉटिक्स, अंतरिक्ष नगरीकरण और जलवायु विज्ञान आदि। ग़ौरतलब है कि आने वाले समय को देखें तो स्पेस साइंस के क्षेत्र में बहुत अच्छी और काफी संभावनाएँ हैं। इस क्षेत्र में अंतरिक्ष वैज्ञानिक के अलावा मौसम सेवाओं, पर्यावरण निगरानी और खगोल वैज्ञानिक अध्ययन के साथ भी जुड़ा जा सकता है।
Author: Amit Rajpoot
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop App, वो भी फ़्री में और कमाएँ ढेरों कैश आसानी से!
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.