Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
जी हां, जून का महीना आज के जा चुका है और कैलेंडर के नजर से देखा जाए तो बारिश का मौसम की शुरूआत कब की हो चुकी है, पर अब भी देश के कई हिस्सों में बारिश का नामों निशान तक नहीं। खासकर उत्तरी भारत में तो हाल बेहाल है, दिल्ली से लेकर यूपी-हरियाणा, राजस्थान और पंजाब जैसो राज्यों में बारिश के लिए लोग तरस रहे हैं। लेकिन इंद्र देवता हैं, जो कि सुनने का नाम ही नहीं ले रहे हैं, हां पर वहीं मुम्बई में बारिश देवता मेहरबान हो चुके हैं। कह सकते हैं कि कुछ ज्यादा ही मेहरबान हो चुके हैं, क्योंकि यहां बारिश के चलते बाढ़ जैसी स्थिति बन चुकी है। ऐसे में यूपी और महाराष्ट्र में बड़ी अलग-अलग स्थितियां बनती दिख रही है। हमारी नजर से जरा आप भी गौर कीजिए दिल्ली और मुम्बई वालों की ऐसी स्थिति को....
असल में, आकड़ो की बात की जाए तो पिछले एक दशक में दिल्ली में ऐसा 5वीं बार हुआ है कि यहां मानसून देरी से पहुंच रहा है। इससे पहले 2011 और 2012 में ही भी कुछ ऐसी ही स्थिति बनी थी। ऐसे में बारिश के आस में यूपी और दिल्ली के लोग आसमान में टकटकी लगाएं हुए हैं। जबकि वहीं महाराष्ट्र बारिश में सराबोर हो चुका है।
वैसे दिल्ली में भी हर रोज बादल आसमान में उमड़ते हैं और पूरे माहौल में ऐसा सन्नाटा छा जाता है जैसे कि बारिश के पहले आने वाला तुफान हो। पर लेकिन फिर वहीं बादल मानो उड़कर कहीं चले जाते हैं। जबकि मुम्बई में तो बारिश की होली मन रही है।
जी हां, बारिश का मौसम प्रेमियों के मिलन का माना जाता है, लेकिन दिल्ली में चूंकि बारिश हो ही नहीं रही है, ऐसे में दिल्ली के प्रेमियों का हाल रेगिस्तान में तड़प रहे लैला मजनू जैसा हो चुका है। वहीं मुम्बई के लवर्स बारिश में चाक धूम धूम, चाक धूम धूम कर रहे हैं।
अगर आपने फिल्म माचिस शोर का सॉन्ग पानी पानी रे सॉन्ग सुना हो तो ये काफी कुछ 1972 में आई फिल्म शोर के गाने पानी रे पानी तेरा रंग कैसा सरीखा है। इन दोनो गानो के सिचुएशन काफी कुछ दिल्ली और मुम्बई वालों की वर्तमान स्थिति जैसी बन रखी है।
Author: Yashodhara virodai
Credit design: Manas Srivastava
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.