Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
धारा 370 को हटाने के लिए सरकार ने आज राज्यसभा में कश्मीर आरक्षण संशोधन बिल पेश कर दिया है, जिसके तहत धारा 370 का खात्मा किया जाएगा। जी हाँ, आपको बता दें कि धारा 370 के सहारे जम्मू कश्मीर को अब तक विशेष राज्य का दर्ज़ा मिला हुआ था, जो कि अब समाप्त हो गया है। ग़ौरतलब है कि अब जम्मू कश्मीर से स्वतंत्र राज्य का दर्ज़ा छीन लिया गया है, जबकि उसे अब केन्द्र शासित प्रदेश बनाया जायेगा। इसमें यह जानना भी काफी दिलचस्प होगा कि अब तक जम्मू-कश्मीर का हिस्सा रहे लद्दाख रेंज को जम्मू-कश्मीर से अलग करके उसे भी जम्मू-कश्मीर की ही तरह केन्द्र शासित प्रदेश बनाया जायेगा। ऐसे में आइए जानें कि धारा 370 के तहत कश्मीरियों को अब तक कैसे-कैसे लाभ मिलते रहे हैं।
आपको बता दें कि धारा 370 की वजह से जम्मू-कश्मीर के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती रही है। जम्मू-कश्मीर का राष्ट्रध्वज अलग होता रहा है। इसके तहत जम्मू-कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 वर्षों का होता है, जबकि भारत के अन्य राज्यों की विधानसभाओं का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है। जम्मू-कश्मीर के अन्दर भारत के राष्ट्रध्वज या राष्ट्रीय प्रतीकों का अपमान अपराध नहीं होता है। भारत के उच्चतम न्यायलय के आदेश जम्मू-कश्मीर के अन्दर मान्य नहीं होते हैं। भारत की संसद को जम्मू-कश्मीर के सम्बन्ध में अत्यंत सीमित क्षेत्र में कानून बना सकती है।
ग़ौरतलब है कि 370 के तहत जम्मू कश्मीर की कोई महिला यदि भारत के किसी अन्य राज्य के व्यक्ति से विवाह कर लेती थी, तो उस महिला की नागरिकता समाप्त हो जाती थी। इसके विपरीत यदि वह पकिस्तान के किसी व्यक्ति से विवाह कर ले तो उसे भी जम्मू-कश्मीर की नागरिकता मिल जायेगी। धारा 370 की वजह से कश्मीर में RTI लागू नहीं है। इतनी ही नहीं, यहाँ RTE और CAG भी लागू नहीं होता। इसके अलाव भारत का कोई भी कानून वहाँ सीधे तौर पर लागू नहीं होता रहा।
कश्मीर में महिलाओं पर शरियत कानून लागू है। कश्मीर में पंचायत के अधिकार नहीं हैं। कश्मीर में चपरासी को 2500 ही मिलते हैं। कश्मीर में अल्पसंख्यको मसलन हिन्दू और सिखों को 16 % आरक्षण नहीं मिलता। धारा 370 की वजह से कश्मीर में बाहर के लोग ज़मीन नहीं खरीद सकते है। धारा 370 की वजह से ही पाकिस्तानियों को भी भारतीय नागरिकता मिल जाती रही है और इसके लिए उन्हें केवल किसी कश्मीरी लड़की से शादी करनी होती थी। ऐसे में धारा 370 का हटना भारत के लिए बेहद ख़ुशी की ख़बर है।
Author: Amit Rajpoot
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop App, वो भी फ़्री में और कमाएँ ढेरों कैश आसानी से!
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.