Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
सुषमा स्वराज का नई दिल्ली के एम्स अस्पताल में बुधवार को 67 वर्ष की अवस्था में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। वह दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री थीं, इसके अलावा उन्हें साल 1977 में सबसे कम उम्र में कैबिनेट मंत्री होने का गौरव भी प्राप्त है, तब वह महज 25 साल की थीं। इतना ही नहीं राजनीति की कक्षा में वह हर दर्ज़े पर हमेशा प्रथम स्थान पर ही रहीं। जी हाँ, आपको बता दें कि साल 1996 में केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री के रूप में सुषमा स्वराज पहली बार संसद के आँगन में पहुँची थीं।
ये बात भी ग़ौर करने लायक है कि सुषमा स्वराज किसी भी राजनैतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता हुयी थी। इसके अलावा वह भारत की पहली नेता प्रतिपक्ष भी रही हैं। आइए सुषमा स्वराज के व्यक्तित्व को और समझने के लिए उनके उन भाषणों पर ग़ौर करते हैं, जिन्होंने सुषमा स्वराज को एक मज़बूत नेता और आयरन लेडी बना दिया।
10वें विश्व हिन्दी सम्मेलन में सुषमा स्वराज के उद्गारः
साल 2015 में सुषमा स्वराज ने 10वें विश्व हिन्दी सम्मेलन में हिन्दी भाषा की संकल्पना को लेकर बहुत ही गुणवत्तापूर्ण भाषण दिया है, जिसमें उन्होंन हिन्दी के संरक्षण और संवर्धन के सन्दर्भ में विचार रखे थे।
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/_2X7lEm_R8k" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
संस्कृत भाषा पर सुषमा स्वराज के तर्कपूर्ण विचारः
संस्कृत भाषा पर सुषमा स्वराज के तर्कपूर्ण विचारों से लोग तब अवगत हुये जब उन्होंने ये भाषण दिया। इसमें उन्होंने संस्कृत भाषा की वैज्ञानिकता पर विस्तार से व्याख्यान दिया था।
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/wn1_rrRtk0s" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
Women's Day पर सुषमा स्वराज के प्रगतिशील विचारः
सुषमा स्वराज जितनी अधिक परंपरागत विचारों वाली थी, वह उतनी ही प्रगतिशील विचारों की भी धनी रही हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर बतौर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का यह विचार सुनने लायक है।
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/siac-4tBrR8" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
धरती को माँ का दर्ज़ा दिये जाने के महत्वपूर्ण कारणों को रेखांकित करतीं सुषमा स्वराजः
सुषमा स्वराज ने अपने संयुक्त राष्ट्र के महासचिव और प्रधानमंत्री मोदी के सामने धरती को माँ का दर्ज़ा दिये जाने के महत्वपूर्ण कारणों को रेखांकित करने का अवसर मिला था, जिसमें उन्होंने बेहद मौलिक विचार व्यक्त किये।
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/yUxPitkBX_4" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
सुषमा स्वराज के इस भाषण को कभी नहीं भुला सकता है पाकिस्तानः
संयुक्त राष्ट्र की आम सभा के 73वें सत्र में सुषमा स्वराज से कालजयी भाषण दिया है। इसमें उन्होंने कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात की थी। पठानकोट एयरबेस पर हमले के बिहाफ़ पर आतंकवाद के मसले पर उन्होंने ऐसी बात कही कि सुषमा स्वराज के इस भाषण को पाकिस्तान कभी नहीं भुला सकता है।
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/8tWrXLMjDzk" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
Author: Amit Rajpoot
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop App, वो भी फ़्री में और कमाएँ ढेरों कैश आसानी से!
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.