Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
इस साल जिस तरह से आये दन किसी ना किसी बड़े हस्ती के मरने की खबर आ रही है इसी तरह से पिछले साल भी एक बड़े नेता की मौत हुई थी। बता दें कि पिछले साल 16 अगस्त को देश के बड़े राजनेता और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपई का देहांत हो गया था। दिल का दौरा पड़ने से अफरा तफरी में उनको दिल्ली के AIIMS अस्पताल में भर्ती कराया गया। इसी के साथ उनका इलाज हुआ मगर इनको बचाया ना जा सका।
बता दें कि देश आज दुनिया की सबसे बड़ा ताकत बनने जा रहा है। मगर बता दें कि इसका बीज वाडपई ने कई साल पहले अपने देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने शासनकाल में ही कर दिया था। इसी के साथ ही दुनिया को बता दिया था कि देश में कितना दम है। इसके लिए पोखरन में की गयी थी इसकी शुरुआत।
बता दें कि साल 1998 में देश किस काबिल है इस बारे में बता दिया था। साल 1998 में अटल बीहारी का शासनकाल चल रहा था। इसी बीच देश में परमाणु मिसाइल का परिक्षण किया गया था। 11 मई 1998 को राजस्थान के पोखरन में अटल बीहारी के नेतरित्व में 5 परमाणु परिक्षण हुए थे। बता दें कि इनका साथ उस समय देश के रॉकेट मैन कहा जाता था।
इन दोनों ने मिलकर देश का नाम रोशन किया था। 11 मई 3 बजकर 45 मिनट पर इसका परिक्षण किया गया था। इसके बाद भारत का नाम परमाणु देश में शुमार हो गया था। जिस वक्त इस मिसाइल का परिक्षण चल रहा था। इस समय अटल जी अपने ऑफिस में बैठ कर मेसेज का इंतेजार कर रहे थे। इसका सफल परिक्षण करने के बाद कलाम जी ने एक खास मेसेज भेजा वो भी वायर के जरिये। इसमें लिखा था “Buddha smiling again”। इसी के साथ ही इसके बाद देश को पूरी दुनिया ने अलग-थलग कर दिया था। इसके साथ ही देश पर सैन्य प्रतिबंध भी लगा दिया था। बता दें कि इसके बाद भी देश का मान रखते हुए शइ काम को आगे बढ़ाया।
Anida Saifi
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से...
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.