Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
दुनिया में काशी को सबसे पुराना शहर माना जाता है। ऐसे में कुछ और शहर भारत में हैं जो सबसे प्राचीन हैं। इनमें से तमिलनाडु राज्य का शह कांचिपुरम् दुनिया के सात सबसे पुराने शहरों में से एक माना जाता है। आपको बता दे कि वैसे तो कांची में क़रीब-क़रीब 125 बड़े मंदिर हैं, जिनका अपना-अपना इतिहास है, लेकिन ऐसा लगता है कि पिछले डेढ़ महीने से इस शहर के सारे रास्ते एक ही मंदिर की ओर मोड़ दिए गए हैं। जी हाँ, मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो1 जुलाई से अब तक करीब 90 लाख लोग इस शहर में आ चुके हैं। इस समय अगर दक्षिण भारत में कहीं आस्था की लहरें हिलोरे ले रही हैं तो वह जगह है कांचीपुरम।
ग़ौरतलब है कि कांची में इस तरह से एकबारगी लोगों का हुजूम उमड़ने का अपना एक ख़ास कारण है। मालूम हो कि 40 साल बाद अत्ति वरदराज की प्रतिमा आनंद सरस सरोवर से निकाली गई है। ये ‘वन्स इन ए लाइफटाइम’ जैसा है। भगवान विष्णु के अवतार अत्ति वरदराज की प्रतिमा सरोवर से हर 40 साल में एक बार निकाली जाती है। मालूम हो कि यह प्रतिमा 48 दिन तक दर्शन के लिए मंदिर में रखी जाती है। फिर अगले 40 साल के लिए दोबारा सरोवर में रख दी जाती है। अब 2059 में यह प्रतिमा 48 दिनों के लिए फिर निकाली जाएगी।
आपको बता दें कि 17 अगस्त की रात इस प्रतिमा को पवित्र सरोवर में जलवास दे दिया गया है। पिछली सदी में यह प्रतिमा 1939 और 1979 में निकाली गई थी। अंजीर की लकड़ी से बनी यह प्रतिमा 9 फीट ऊंची है। इस साल 28 जून को वैदिक ऋचाओं के गान के साथ प्रतिमा को वेदपाठी पंडितों ने अपनी पीठ पर रखकर बाहर निकाला था।
Author: Amit Rajpoot
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop App, वो भी फ़्री में और कमाएँ ढेरों कैश आसानी से!
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.