Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
अलसी यानी कि फ़्लैक्सीड के सेवन से हमें अनेक स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड विशेष रूप से पाया जाता है, जो कि वजन कम करने में काफी अहम भूमिका निभाता है। जी हाँ, आपको बता दें कि अलसी मोटापा कम करने में किसी रामबाण से कम नहीं है। इसके अलावा रक्तचाप और मधुमेय के रोगियों के लिए भी अलसी काफी फ़ायदेमंद होती है। ये बात भी काफी दिलचस्प है कि अलसी में लिनोलिक एसिड, लिगनन और फ़ाइबर भी पाये जाते हैं, जो कुछ हद तक ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करते हैं।
आपको बता दें कि अलसी में म्यूसिलेज होता है, जो एक प्रकार का फ़ाइबर होता है। म्यूसिलेज हमारे पाचन तंत्र को नियंत्रित करके ख़ून से ग्लूकोज़ की मात्रा को कम करता है। सर्दी और खाँसी की समस्या को कम करने में भी अलसी का रोल बहुत ज़बरदस्त है। ये बात भी जानने लायक है कि अलसी शरीर के हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। इससे दिल को होने वाली बीमारियों का ख़तरा कम हो जाता है।
ग़ौरतलब है कि एंटी ऑक्सीडेंट और फ़ाइटोकेमिकल्स युक्त अलसी त्वचा का कसाव बनाए रखती है। इसका सेवन पीसकर और एक दिन में 30 ग्राम से अधिक नहीं करना चाहिए। आयुर्वेद में अलसी को मंदगंधयुक्त, मधुर, बलकारक, किंचित कफवात-कारक, पित्तनाशक, स्निग्ध, पचने में भारी, गरम, पौष्टिक, कामोद्दीपक, पीठ के दर्द ओर सूजन को मिटानेवाली कहा गया है। गरम पानी में डालकर केवल बीजों का या इसके साथ एक तिहाई भाग मुलेठी का चूर्ण मिलाकर, काढ़ा बनाया जाता है, जो रक्तातिसार और मूत्र संबंधी रोगों में उपयोगी कहा गया है।
Author: Amit Rajpoot
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop App वो भी फ़्री में और कमाएँ ढेरों कैश आसानी से!
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.