Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
अब-तक चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई थे, जिनके कार्यकाल के दौरान हमने सुप्रीम कोर्ट ने कई बड़े फैसले सुने थे। हालांकि 17 सिंतबर को वह अपने पद से रिटायर हो गये हैं, इसके बाद देश को 47वें चीफ जस्टिस मिले हैं। इनका नाम है ‘एस.ए. बोबडे’ जिनका पूरा नाम है शरद अरविंद बोबडे। आज सुबह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के समक्ष एस.ए. बोबडे ने भारत के प्रधान न्यायाधीश यानी चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) के रूप में शपथ ग्रहण की।
हम में से ज्यादातर लोग एस.ए बोबडे के बारे में नहीं जानते होंगे, लेकिन अब जब वो चीफ जस्टिस बन चुके हैं तो हर किसी को उनके बारे में जानना चाहिए। आइए जानते हैं कौन है एस.ए बोबडे-
जस्टिस शरद अरविंद बोबडे का जन्म 24 अप्रैल 1956 को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ था। उनके परिवार का बैकग्राउंड भी वकालत से जुड़ा हुआ है। शरद के दादा जी एक वकील थे, वहीं उनके पिता अरविंद बोबडे 1980 ले 1985 के दौरान महाराष्ट्र में वकील के तौर पर काम कर चुके हैं। शरद के स्वर्गीय बड़े भाई विनोद अरविंद बोबडे भी सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ वकील के तौर पर काम करते थे।
CJI शरद अरविंद बोबडे ने नागपुर यूनिवर्सिटी से BA और फिर LLB की डिग्री ली है।
इसके बाद 1978 में बोबडे ने बार काउंसिल ऑफ महाराष्ट्र में काम करना शुरू किया। इसके बाद से वह लगातार बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच पर वकालत करते रहे।
साल 2000 में वह अपर जस्टिस के रूप में बॉम्बे हाईकोर्ट की खंडपीठ का हिस्सा बनें। इसके बाद वह बॉम्बे हाइकोर्ट में अपर जस्टिस के तौर हिस्सा बनें।
इसके साल साल 2012 में वह मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बनें।
इसके 1 साल बाद ही उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का सफर तय किया और 12 अप्रैल 2013 में वह सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस बनें।
हाल ही में अयोध्या मामले में गठित CJI रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 सदस्यों की पीठ में शरद अरविंद बोबडे भी शामिल थे।
आज उन्होंने CJI के तौर पर नया सफर तय किया है, उनका ये कार्यकाल 23 अप्रैल 2021 तक चलने वाला है।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से...
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.